Header Ads

(Republic Day-26 January) Gantantra Diwas Essay In Hindi

(Republic Day-26 January) Gantantra Diwas Essay In Hindi-

Republic Day Essay In Hindi और सभी Students  के लिए Gantantra diwas essay in hindi for class 5,4,3,2,1,7,8,9 , Republic Day 2020 Date Is 26 January और भी कई निबंध पढ़े हमारी वेबसाइट से।  साथ ही में CLASS 10 के Student के लिए Essay On Republic Day In Hindi के साथ इसी पोस्ट में आपको Republic day के बारे में सभी जानकारी मिल जाएगी।  कृपया कर के पोस्ट को पूरा पढ़े। 

Republic day Essay In Hindi


प्रस्तावना :
             गणतंत्र दिवस बहोत ही खास दिन है।  हम गणतंत्र दिन को 1950 से 26 जनवरी के दिन बहोत खुसी और उत्साह से मानते है। 2020 में भारत अपना 71 वा गणतंत्र दिन 26 जनवरी को मनाया गया था। भारत के तीन राष्ट्रीय पर्वो में से एक है , जीसे 26 जनवरी के दिन पुरे जोश और उत्साह के साथ  मनाया जाता है।  26 जनवरी वो दिन है जब भारत में गणतंत्र और संविधान की स्थापना हुई थी 


गणतंत्र दिवस निबंध हिंदी में 


            भारत 15 अगस्त 1947 को आजाद हुआ। स्वतंत्र होने पर देश के कर्णधारो ने देश का नया संविधान लागु किया। बस तभी से हमारे भारत का सर्वोच्च साशक राष्ट्पति कहलाया। हमारे भारत का नया संविधान 26 जनवरी 1950 को लागु किया गया था। आप को पता की भारत का नया संविधान बनाने में काफी समय लगा था लगभग दो साल, ग्यारह महीने और  अठारा दिन लगे थे।  उस दिन से हर साल हमारे भारत में 26 जनवरी के दिन गणतंत्र दिवस बड़े ही उत्साह से मनाया जाता है। 

           भारत के राष्ट्रीय त्योहारों में गणतंत्र दिन का नाम सबसे पहले आता है। और इस दिन को सारे देश भर में उमंग से मनाया जाता है। भारतीय गणतंत्र दिवस हमें हमारे देश में स्थापित गणतंत्र और संविधान को याद दिलाता है। 26 जनवरी 1950 का दिन था। जब कांग्रेस ने पहेली बार पूर्ण स्वराज की मांग रखी थी।  कांग्रेस की पूर्ण स्वराज की मांग की शरुआत 1929 हौर में हुई। पंडित जवाहर लाल नहेरु क्र अध्यासमक्ष में हुई। 
        गणतंत्र के दिन सारे देश  भर में कार्यक्रम आयोजित किये जाते है खास कर विद्यालयों में तथा सरकारी कार्यालयोंमे इस दिन को काफी  धूम धाम से मनाया जाता है।  भारत के काफी सारे विद्यालयों में गणतंत्र   दिन के कुछ दिन पहले से ही विध्यार्थीओ को डांस ,संगीत ,निबंध बोलना जैसे स्पर्धात्मक कार्य की तैयारी करवाई जाती है          
          
गणतंत्र दिवस का महत्व :
              भारत में गणतंत्र दिवस का बड़ा ही महत्व है।  हमारे लिए जितनी जरुरी आजादी,स्वतंत्रता है हमें उतना ही जरुरी संविधान को लागु होने का महत्व है।  26 जनवरी को मानाने के लिए पूरा भारत  बेसब्री से इंतजार करता है। यही नहीं पुरे भारत वासी 26 जनवरी के पहले से ही तैयारी करना शरू कर देते है और उस दिन काफी सरे हर्षोल्लास के साथ मनाते है   
            खास कर के स्कूलों में इस का महत्व कही अधिक ज्यादा है।  26 जनवरी के दिन जब हमारे देश का संविधान प्रभावी हुआ और हमारा भारत विश्र्व  पटल पर एक गणतांत्रिक देश के रूप में स्थापित हुआ।(gantantra diwas essay in hindi for class 8) कई स्कूल जहा NCC है,वहा इस दिन परेड भी होती है। कहीछात्र और  छात्राओं को   पुरुस्कार तथा प्रमाणपत्र आदि से सम्मानित किया जाता है।            आज हम आजाद है।  आज हम स्वतंत्र रूप से कोई भी फैसला ले सकते है , तो ऐसा हमारे देश के संविधान और गणतांत्रिक स्वरुप के कारन संभव है। 

गणतंत्र दिवस समारोह :
         भारत में गणतंत्र दिवस का समारोह हर साल भारत सरकार  द्वारा  नई  दिल्ली के राज पथ में बड़ी धूम धाम के साथ मनाया जाता है।  इस के साथ ही हमारे देश में गणतंत्र दिन पर किसी विशेष विदेशी अतिथि को आमंत्रित किया जाता है ,ये हमरे देश की एक प्रथा रही है। कही बार हमारे देश में गणतंत्र दिन पर एक से अधिक अतिथि को आमंत्रित किया जाता है     
          हमारे देश में गणतंत्र दिन (gantantra diwas essay in hindi for class 7)पर हमारे देश के राष्ट्रपति द्वारा सर्वप्रथ तिरंगा लहराया जाता है और इसके उपरांत वह मौजूद सभी लोग आपने जगह पर खड़े होकर राष्ट्रगान गाते है। इस समारोह की तैयारियां भारत सरराकर  कही दिन पहेले से सुरु कर देती है।

REPUBLIC DAY ESSAY IN HINDI

            गणतंरा दिवस से पहेली संध्या  कोदेश का राष्ट्रपति देश के नाम सन्देश देता है।  जिसका प्रशारण संचार के माध्यम से किया जाता है जैसे की फ़ोन ,रेडिओ, टीवी। तदुपरांत सरे भारत की सांस्कृतिक पोर पारंपरिक झांकिया निकली जाती है। .,जो देखने में काफी मनमोहक होती है। इन सबके बाद सबसे बड़ा कार्यक्रम परेड का होता है जिसे देखने के लोगो की भीड़ इक्कठा होती है और सारे लोग देख कर प्रसन्न हो जाते है   
        गणतंत्र दिवस का कार्यक्रम सुबह सहीदो की ज्योत जलाकर किया जाता है। बाद  में विभिन्न राज्यों प्रदर्शनी  भी होती है।  

Republic Day Lines In Hindi


             सोचता हु क्या दे पाउँगा जो मेने पाया इस देश  से क्या में कभी चूका पाउँगा जो मेने पाया है इस देश से फैलाना है मुझे देश सम्मान की भावना शायद इस तरह नजर मिला पाउँगा अपने देश से 
            किसी भी बड़े बदलाव के पीछे बहोत बड़ा संगर्ष छिपा होता है ठीक उसी तरह भारत की आजादि  के बाद गणतंत्रा देश में विपरित  हुआ था।  गणतंत्र दिवस के दिन संविधान को स्थापित किया गया था  

आजादी का सही अर्थ :              विकास के पथ पर आगे बढ़ कर देश और समाज को ऐसी दिशा देना ,जिसे हमरे देश की संस्कृति की साडी खुसबू चारो और फ़ैल सके।  लेकिन आज हमारे भारत देश की युवा पीढ़ी आजादी के सही मायने भूलती जा रही है।  हमरे देश के युवा लोग पाश्चात्य संस्कृति से अत्यधिक प्रभाविक हो रहे है।  आज हमें अपनी आजादी का सदुपयोग करते हुए हमारे  समाज और देश को विकास के पथ पर ले जाना चाहिए सही मायने में यही है आजादी का अर्थ।

क्या है आजादी :            आजादी को पारिभाषिक करना बहोत मुश्किल है। हर इन्शान आजादी का सही उपयोग करते हुए आजादी  की सिमा तय करता है चाहे वो किसी भी प्रकार की आजादी हो।  आज कल हर व्यक्ति स्वतंत्र रहना चाहता है , परंतू इस की अधिकता कभी - कभी नुकशानकारक साबित होती है 
किस तरीके से मनाया जाता है ये दिन :          भारत में गणतंत्र दिवस का दिन सस्तीय अवकास के रूप में मनाया जाता है। इस त्यौहार का उत्सव सब अपने अपने तरीके से मनाते है।  जैसे की टीवी या समाचार पत्र पत्र में गणतंत्र  दिन के बारे में समाचार पढ़ कर या स्कूल में भाषण दे कर ,वहारत की आजादी या संविधान की बाबत की प्रतियोगिता में भाग लेकर 

भारत एक मजबूत लोकतंत्र :           हमारा भारत एक महबूत लोकतंत्र है।  ये गर्व करने की बात है।  बहोत सरे प्रेक्षकों का मानना था की भारत एक देश के रूप में ज्यादा नहीं टिक पायेगा या भासाये समूह अपने अलग राष्ट की मांग करेगा और उसके टुकड़े-टुकड़े हो जायेंगे परन्तु ये साडी बाते निर्मूल यानि की जूठी साबित हुई है     
उपसंहार :         गणतंत्र दिन हमरे तीन राष्टों में से एक है बस यही एक कारण  इसे सरे देश में जोश और उल्लास के साथ मनाया जाता है   
         26 जनवरी का यह दिन हमारे देश के लिए एक ऐतिहासिक पर्व है। इसी लिए हमें पुरे जोश और उल्लास के साथ इस पर्व को मानना चाहिए           जो 26 जनवरी 1950 के दिन लागु किया गया था वो संविधान हमें याद रखना चाहिए और उसका पालन करना चाहिए।
जय हिन्द 

No comments

Powered by Blogger.